Single Column Posts

1 min read

'केबीसी-5' के विजेता बिहार के सुशील कुमार ने कहा है कि शो में ₹5 करोड़ जीतने के बाद वह जीवन के सबसे बुरे दौर से...

1 min read

इस घर में न पंखा है न एसी; हर साल करते हैं ‘एक लाख लीटर’ पानी की बचत! 90 के दशक की शुरुआत में जब एस....

1 min read

स्पैरो मैन ऑफ़ इंडिया: ऊँची इमारतों के बीच 26 प्रजातियों की चिड़ियाँ का बसेरा है इनका घर! “अगर कभी घर के अंदर चिड़िया आ जाती,...

1 min read

OIL India Recruitment 2020: ऑयल इंडिया लिमिटेड, एक नवरत्न पब्लिक सेक्टर ने ऑप्रेटर के पदों पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं।  आवेदन 21...

कोरोना काल में अपने बयानों को लेकर विवाद में रहने वाले ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो एक बार फिर से अपने विवादास्पद बयान को लेकर...

Fri. Sep 25th, 2020

हिन्दी समाचार

Hindi News ,हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी, ताजा खबरें, लेटेस्ट न्यूज़ -Shivaay TV

Raat Akeli Hai – Movie Review : सिर्फ मर्डर मिस्ट्री नहीं है फिल्म, जानें देखकर क्यों रोंगटे खड़े हो जाएंगे

1 min read

Created with GIMP

Raat Akeli Hai (2020)

Suspense, Crime, Thriller : 2hr 30min

कलाकार :

निर्देशक : हनी त्रेहन  , लेखन : स्मिता सिंह

कहाँ देखें  : Netflix

क्या है कहानी :

रात को यहां मेटाफर के रूप में इस्तेमाल किया गया है। यहां रात अकेली नहीं है। अपने आगोश में कई सच छुपाये हुए है और वे सारे घिनौने सच हैं। इस फिल्म के पुरुष पात्र महिलाओं पर धाक जमा रहे होते हैं और अय्याश हैं। महिलाएं बार-बार दबाई जा रही हैं। जटिल (नवाज) की शादी की चिंता मां (ईला) को सताती रहती है। वह जटिल के काले रंग से परेशान है।

इसी बीच रघुवीर सिंह (खालिद तैयब जी), जो कि शहर का ठाकुर है, उसका खून हो जाता है। उसने अपने से बेहद छोटी उम्र की लड़की राधा (राधिका आप्टे) से जबरन शादी कर ली है। परिवार में करुणा (श्वेता) बेटी, वसुधा भतीजी (शिवानी), विक्रम (निशांत) भतीजा, भाभी (पद्मावती), साला (स्वानंद किरकिरे) शेष रह जाते हैं। केस जटिल (नवाजुद्दीन सिद्दीकी) को हैंड ओवर कर दिया जाता है। जटिल एक पुलिस ऑफिसर (श्रीधर दुबे) के साथ मिल कर केस सुलझाने में लग जाते हैं।

सबका शक राधा पर है, सब चाहते हैं कि उस पर ही खून का इल्जाम आये। मगर जटिल को पता है कि केस में पेंच है। कहानी में ट्विस्ट मुन्ना राजा (आदित्य श्रीवास्तव) की एंट्री से आता है। आखिर किसने मर्डर किया है और क्यों, सच जानने के बाद रोंगटे खड़े हो जाते हैं।

क्या है अच्छा / क्यों देखें :

लम्बे समय के बाद एक अच्छी मर्डर मिस्ट्री फिल्म दर्शकों के सामने आई है। हनी की यह पहली फिल्म है। उस लिहाज से उन्होंने एक बेहतरीन कहानी कही है। कहानी बोर नहीं करती। थ्रिलर फिल्मों का क्लाइमेक्स मजेदार हो तो संतुष्टि मिलती है। इस फिल्म में वह बात है। फिल्म केवल पारिवारिक राजनीति पर नहीं बल्कि एक बेहद संवेदनशील मुद्दे को छूती है। बाल यौन शोषण के अलावा शादी में रंगभेद पर भी बात रखी गई है।

अदाकारी : नवाजुद्दीन सिद्दीकी एक गंभीर और ईमानदार, निडर पुलिस ऑफिसर की भूमिका में पूरी तरह जंचे हैं। पूरी फिल्म में उन्होंने शानदार संवाद बोले हैं और अच्छा एक्शन किया है राधिका का अभिनय कमजोर लगा, वह रस्टिक टच दे नहीं पाई हैं। इस फिल्म के असली हीरो फिल्म के सहायक कलाकार हैं। श्रीधर दुबे की प्रतिभा के इस फिल्म में सही इस्तेमाल हुआ है।

नवाज के साथ उनकी जोड़ी दिलचस्प है। श्रीधर ने कुछ कमाल के दृश्य दिए हैं। श्वेता त्रिपाठी के हिस्से कम दृश्य आये हैं। उन्हें और स्क्रीन स्पेस मिल सकता था। निशांत दहिया, शिवानी और पद्मावती इस फिल्म की जान हैं। स्वानंद और तिग्मांशु को केवल नाम के लिए रखा गया है। ईला अरुण ने अच्छा मनोरंजन किया है। आदित्य श्रीवास्तव को और फिल्में करनी चाहिए धाकड़ अभिनय किया है उन्होंने।

फिल्म का प्लॉट रोचक है और कहानी अंत तक बांधे रहती है. अंत चौंकाता है और कई खुलासे करता है. फिल्म में नवाज ने अपने परफॉरमेंस से जान डाली है और उन्हें साथियों का पूरा सहयोग मिला है. फिल्म का थ्रिल कहीं ढीला नहीं पड़ता. शुरू से अंत तक रफ्तार बरकरार है. ऐसे में जब आप इसे एक बार देखना शुरू करेंगे तो बीच में रुक नहीं पाएंगे.

क्या है बुरा / क्यों ना देखें

राधिका आप्टे उत्तर प्रदेश को लहजे में फिट नहीं बैठ पाई हैं। स्वानंद किरकिरे का किरदार अचानक फिल्म से गायब हो जाता है। कहानी के नैरेटिव में थोड़ी रफ्तार होती तो फिल्म और अच्छी हो सकती थी। तिग्मांशु के किरदार का औचित्य समझ ही नहीं आया। कहानी में कुछ और ट्विस्ट आते तो और मजा आता।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *